होम > विपणन > महत्‍वपूर्ण प्रक्रियाएं एवं कार्यकलाप

महत्‍वपूर्ण प्रक्रियाएं एवं कार्यकलाप

महत्‍वपूर्ण प्रक्रिया और कार्यकलाप

विपणन महत्‍वपूर्ण प्रक्रिया में ओएमसीज नामत: इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड, हिन्‍दुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड और भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन लि0 द्वारा पेट्रालियम उत्‍पादों के भंडारण, वितरण और बिक्री शामिल हैं। ओएमसीज विपणन कार्य-कलापों को पूरे देश में अपने व्‍यापक नेटवर्क टर्मिनलों /डिपों, एलपीजी भरण संयंत्रों, खुदरा बिक्री केन्‍द्रों, एलपीजी डिस्‍ट्रीब्‍यूटरशिपों और एसकेओ/एलडीओ डीलर के माध्‍यम से करती हैं।

राज्‍य/यूटीज को पीडीएस मिट्टी तेल का आबंटन

सुपीरियर मिट्टी तेल(एसकेओ) सार्वजनिक वितरण प्रणाली(पीडीएस) के माध्‍यम से वितरित किए जाने वाले संवेदनशील पेट्रोलियम उत्‍पादों में से एक है। भारत सरकार द्वारा विभिन्‍न राज्‍यों/संघ शासित प्रदेशों(यूटीज) को सार्वजनिक वितरण प्रणाली(पीडीएस) के तहत वितरण के लिए तिमाही आधार पर पीडीएस एसकेओ का आबंटन केवल खाना पकाने और रोशनी करने के लिए किया जाता है। राज्‍यों/यूटीज को पीडीएस मिट्टी तेल का आबंटन पिछले आबंटनों के आधार पर किया गया है। अपने पीडीएस नेटवर्क के जरिए राज्‍यों/यूटीज के भीतर मिट्टी तेल को आगे वितरित करने की जिम्‍मेदारी संबंधित राज्‍य/यूटीज की होती है।

विनियामक उपाय

ईधन में मिलावट को रोकने के लिए आवश्‍यक वस्‍तु अधिनियम 1955 के तहत सरकार द्वारा जारी किए गए नियंत्रण आदेश में राज्‍य सरकारों को मिलावट में लिप्‍त व्‍यक्‍तियों के विरूद्ध कार्रवाई करने के लिए शक्‍ति दी गई है। इसके अलावा, अनियमितताओं/कदाचारों के सिद्ध मामलों के लिए आरओ डीलरों/एलपीजी डिस्‍ट्रीब्‍यूटरों के विरूद्ध कार्रवाई करने के लिए विपणन अनुशासन दिशा-निर्देश (एमडीजी) भी तैयार किए गए हैं।

खुदरा बिक्री केन्‍द्रों का स्‍वचालन

नवीनतम तकनीकी सुधारों को अपनाते हुए खुदरा बिक्री केन्‍द्रों में क्रियाकलापों की निगरानी करने के लिए, खुदरा बिक्री केन्‍द्रों के स्‍वचालन का क्रियान्‍वयन किया जा रहा है। खुदरा स्‍वचालन खुदरा बिक्री केन्‍द्र के समस्‍त प्रचालनों और व्‍यापार प्रक्रियाओं का स्‍वचालन है। समस्‍त संव्‍यवहारों को इलेक्‍ट्रानिक तरीके से एकत्रित करने, मिलान करने और विश्‍लेषण द्वारा इस लक्ष्‍य को प्राप्‍त किया जाता है। खुदरा स्‍वचालन का मुख्‍य उद्देश्‍य ग्राहक रिलेशनशिप प्रबंधन है। मानवीय दखलअंदाजी समाप्‍त होती है और लेन-देन तथा प्रचालनों की गति बढ़ जाती है जिसके परिणामस्‍वरूप तेल की भराई जल्‍दी होती है। इस प्रणाली में खुदरा बिक्री प्रचालनों के सभी पहलुओं की पारदर्शिता और नियंत्रण तथा खुदरा बिक्री केन्‍द्र के निष्‍पादन को सुदृढ़ नियंत्रण और विश्‍लेषण सृजित डेटाबेस की व्‍यवस्‍था की गई है। खुदरा बिक्री केन्‍द्रों, जहां स्‍वचालन प्रणाली लागू की जाती है, को एनएएनओ अर्थात ‘स्‍वचालन के बगैर प्रचालन नहीं’ की अवधारना पर चलाया जाता है।

टेम्‍पर प्रूफ लॉकिंग सिस्‍टम और टैंक ट्रकों की जीपीएस ट्रैकिंग

ओएमसीज ने ट्रांसपोर्टरों द्वारा मार्ग में मिलावट को रोकने के लिए टेम्‍पर प्रूफ टैंक ट्रक लॉकिंग प्रणाली की शुरूआत की है। ढुलाई के दौरान मिलावट को रोकने के लिए ओएमसीज ने सभी कंपनी के स्‍वामित्‍व/डीलर के स्‍वामित्‍व/संविदाकार के स्‍वामित्‍व वाले टैंक ट्रकों में जीपीएस लगाने के निर्देश दिए हैं ताकि आवाजाही की पूरी निगरानी की जाए।

MyLPG.in

सरकार के डिजीटल इंडिया अभियान के अनुसार, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने एलपीजी उपभोक्‍ताओं को उनकी सुविधानुसार घर पर रसोई गैस की आपूर्ति करने से संबंधित सभी सेवाएं प्रदान करने के लिए एकीकृत उपाय मुहैया कराने के उद्देश्‍य से 7दिन 24 घंटे (24x7) वेब आधारित अनुप्रयोग www.mylpg.in को शुरू किया है। इस पोर्टल में सभी तीन तेल विपणन कंपनियों इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड, हिन्‍दुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लि0 और भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन लि0 और उनके डिस्‍ट्रीब्‍यूटरों के एलपीजी उपभोक्‍ताओं को विभिन्‍न सुविधाएं जैसे कि नए कनेक्‍शनों के लिए पंजीकरण, रीफिल बुक करना, सुपुर्दगी की स्‍थिति का पता लगाने, अपने डिस्‍ट्रीब्‍यूटर की रेटिंग, अपने डिस्‍ट्रीब्‍यूटरों को बदलना, अपने कनेक्‍शनों को त्‍यागना तथा एलपीजी राजसहायता को छोड़ना आदि सुविधाएं प्रदान की गई हैं। इस पोर्टल में एलपीजी से संबंधित सभी सूचना पारदर्शी तरीके से उपलब्‍ध होती है जिससे उपभोक्‍ता सशक्‍त बनते है।

छेड़छाड़ रोधी सील (टेंपर एविडेंट सील)

ओएमसीज ने ग्राहक संतुष्‍टि को बढ़ाने के अपने सतत लक्ष्‍य में एलपीजी सिलिंडरों के इस्‍तेमाल के लिए नई छेड़छाड़ रोधी सील (टीईएस) शुरू की है। सील में बनावटी विरोधी उपाय है जैसे सील पर होलोग्राम को गर्म करके स्टैंप लगाई गई है और इसमें एक संदेश है ‘’ लर्क जेनुइन’’। ‘’लर्क’’ एक कोण से दिखाई देता है और ‘’जेनुइन’’ दूसरे कोण से दिखाई देता है। यदि सील को बेइमानी से बदलने के प्रयास किए जाते हैं, तो यह नष्‍ट हो जाती है। ओएमसीज ने पैन इंडिया आधार पर टैंपर प्रूफ सील शुरू की है।

आपातकालीन सहायता नम्‍बर – ‘1906’

01.01.2016 को माननीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री द्वारा यह बहुभाषी एलपीजी आपात हेल्‍पलाइन राष्‍ट्र को समर्पित की गयी थी। आपात एलपीजी रिसाव संबंधी शिकायतों को सुनने की सुविधा 7 दिन 24 घण्‍टे उपलब्‍ध रहती है जिसमें 12 घण्‍टे का 2 शिफ्ट होती है। कॉल सेन्‍टर में कॉल लॉग्‍स को दर्ज करने, देखने, निगरानी और यांत्रिक और क्षेत्र अधिकारियों के सम्‍पर्क ब्‍यौरों को अद्यतन करने के लिए वेब आधारित अनुप्रयोग मौजूद है।

एमओपीएनजी ई–सेवा

तेल और गैस से संबंधित मुद्दों के संबंध में एमओपीएनजी –ई सेवा पूरे सोशल मीडिया का एक एकीकृत शिकायत निवारण मंच है। यह पोर्टल सभी ग्राहकों के लिए सिंगल प्‍वाइंट इन्‍टरफेस होगी जिसके जरिए वे सोशल मीडिया पर तेल और गैस क्षेत्र से संबंधित फीडबैक अथवा अपनी शिकायतों का निवारण करने के लिए सरकार तक पहुंच सकें। एमओपीएनजी –ई-सेवा 7 दिन और 24 घण्‍टे ग्राहको को सेवा भी प्रदान करेगी।

ईएसवी (सहज)

तेल विपणन कंपनियों (ओएमसीज) ने मई 2015 में ‘ई-एसवी’ नाम से प्रायोगिक आधार पर एक सुविधा शुरू की है। ‘ई-एसवी’ एक इलेक्‍ट्रानिक सब्‍सक्रिप्‍शन वाउचर है जो ऑन लाइन एलपीजी कनेक्‍शन जारी करने पर, ग्राहक को ई-मेल किया जाता है। सब्‍सक्रिप्‍शन वाउचर में जमानत राशि पर ग्राहक को उधार दिए गए सिलिंडरों और प्रैशर रेगूलेटरों की संख्‍या होती है। यह सुविधा एलपीजी डिस्‍ट्रीब्‍यूटरशिप में गए बिना, ग्राहकों को एलपीजी कनेक्‍शन लेने के लिए पंजीकरण और ऑन लाइन भुगतान करने में समर्थ बनाती है। सहज पहल 30.08.15 को 12 नगरों में औपचारिक रूप में शुरू किया गया था। ऑन लाइन नया एलपीजी कनेक्‍शन ऐसे सभी जिलों में जहां एनआईसी ने यह सुविधा दी है, अन्‍तर कंपनी डी-डुप्‍लीकेशन करने के बाद जारी किया जाता है। शेष जिलों के लिए, एनआईसी द्वारा वैसी ही सुविधा दिए जाने तक अन्‍तर कंपनी डी-डुप्‍लीकेशन की विद्यमान प्रक्रिया के अनुसार कनेक्‍शन जारी किए जाएंगे।

रीफिलों के लिए ऑनलाइन भुगतान सुविधा

डिजिटल इंडिया पहल के भाग के रूप में, ओएमसीज ने एलपीजी सिलेण्‍डरों के लिए पोर्टेबिलिटी तथा रीफिल के ऑनलाइन भुगतान की सुविधा की शुरूआत पहले ही कर दी है, जिसमें ग्राहकों को नेट बैकिंग और क्रेडिट/डेबिट कार्ड के माध्‍यम से ऑनलाइन भुगतान करने के भी विकल्‍प दिए गए है।

डिजिटल लॉकर

पेपर लेस कार्यालय की ओर अग्रसर होने के उद्देश्‍य से, ‘डिजिटल लॉकर’ की सुविधा का कार्यान्‍वयन किया गया है। इस सुविधा के तहत, सब्‍सक्रिपशन वाउचर (एसवीज) और स्‍थानान्‍तरण वाउचर (टीवीज) उपभोक्‍ताओं को डिजिटल लॉकर से उपलब्‍ध कराया जाता है। पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय देश में आधार से सम्‍बद्ध ई-एसV दस्‍तावेज का सबसे बड़ा जारीकर्ता है। इससे उपभोक्‍ताओं को बिना किसी परेशानी के कनेक्‍शन प्राप्‍त होता है तथा इससे हानि अथवा नुकसान के भय के बिना दस्‍तावेजों की सुरक्षा और संरक्षा भी सुनिश्‍चित होती है।